कब्ज घरेलू नुस्खे

कब्ज का इलाज जड़ से करने के 10 घरेलू नुस्खे और उपाय

कब्ज कैसे दूर करे : हर इंसान को अपनी जिंदगी में कब्ज़ की शिकायत कभी न कभी होती ही हैं पर कुछ लोगो को कब्ज़ बार बार बनता हैं जिसकी वजह से उन्हें काफी समय शौचालय में बिताना पड़ता हैं। ज्यादातर कब्ज से पीड़ित लोग, लोगो के सामने अपनी इस समस्या को मानते नहीं पर एक सर्वे के अनुसार भारत में लगभग 90% लोगो को पेट सही से साफ़ न होने की शिकायत कभी न कभी होती हैं जिसमे से 60% लोगो को नियमित कब्ज़ बनता हैं।आज हम आपको कब्ज़ का इलाज के घरेलू उपाय और आयुर्वेदिक नुस्खे बताएँगे।

पाचन तन्त्र संबधित समसयाओ में कब्ज़ सबसे आम हैं। कब्ज में मल जिसे देसी भाषा में लेटरिन भी कहते हैं वो काफी सख्त हो जाती हैं जिससे मल त्यागना मुश्किल बन जाता हैं। लम्बे समय तक कब्ज़ रहने से पेट में गैस, एसिडिटी, दर्द , जी मिचलाना, सर दर्द, मुह में छाले और भूख की कमी हो सकती हैं जिन्हें हम कब्ज़ के लक्षण भी होते हैं।

हालाँकि कब्ज़ महिला पुरुष या बच्चो किसी को भी हो सकता हैं। पर महिलाओ और 65 साल से अधिक आयु के लोगो में कब्ज़ बनने की समस्या ज्यादा होती हैं। महिलाओ को प्रेगनेंसी में और बच्चा पैदा होने बाद कब्ज काफी बनता हैं। इसके अलावा कुछ दवाइयों के नियमित सेवन से होने वाले साइड इफ़ेक्ट के वजह से भी कब्ज़ बन सकता हैं।

कब्ज़ होने के कारण : Constipation Causes in Hindi

  • पानी कम पीना
  • पाचन तन्त्र कमज़ोर होना
  • शारीरिक कामकाज कम करना / एक जगह ज्यादा बैठे रहना
  • कम फाइबर वाली डाइट लेना
  • प्रेगनेंसी के दौरान
  • बवासीर
  • तनाव में रहना
  • किसी दवाई का साइड इफ़ेक्ट
  • दिनचर्या में बदलाव

जाने : बवासीर के लक्षण और घरेलू उपचार

कब्ज का इलाज के घरेलू नुस्खे उपाय

कब्ज का इलाज के घरेलू नुस्खे

Kabj ka ilaj ke Upay in Hindi

कब्ज की बीमारी असहज और बेचनी पैदा कर देती हैं जिससे किसी काम में भी मन नहीं लग पाता। कब्ज दूर करने के लिए लोग कई तरह की अंग्रेजीदवाइयों और चूर्ण का सेवन करते हैं। जो एक बार तो कब्ज़ तोड़ कर पेट साफ़ कर देते हैं परआपको फिर से कब्ज़ बन जाता हैं जिसके लिए फिर उन दवाइयों को लेना पड़ता हैं। और ऐसे मेडिसिन के कुछ साइड इफ़ेक्ट भी होते हैं। अच्छी बात ये हैं की हम कुछ घरेलू नुस्खों से ही कब्ज़ का उपचार कर सकते हैं। ऐसे ही कब्ज़ के घरेलू उपाय निचे दिए हैं।

1. अरंडी का तेल

कब्ज का रामबाण इलाज के लिए अरंडी का तेल एक कारगर घरेलू नुस्खा हैं। अगर आपको पुरानी कब्ज़ है जो आपको लम्बे समय से परेशान कर रही है तो ऐसे में ही आपको ये तरीका अपनाना चाहिए। अरंडी का तेल सेवन करने से बड़ी और छोटी आंत उत्तेजित होती हैं जिससे कब्ज़ में राहत मिलती हैं।

अरंडी के तेल का सेवन सुबह के समय खाली पेट करना हैं। सुबह बिना कुछ खाए  पिए 1-2  चमच्च अरंडी के तेल का सेवन करे।अगर आपको स्वाद ज्यादा खराब लगता हैं तो आप अरंडी का तेल एक गिलास दूध या जूस के साथ भी ले सकते हैं।

2. अंजीर

पुरानी कब्ज को जड़ से ख़त्म करने के लिए अंजीर का सेवन एक असरदार घरेलु उपाय हैं। जिन लोगो का रोज़ पेट साफ़ नहीं होता और कब्ज़ी ज्यादा बनती हैं उन्हें अपने खुराक में अंजीर को शामिल करना चाहिए। कब्ज़ से तुरंत राहत में ताज़ी और सूखी दोनों तरह की अंजीर का सेवन किया जा सकता हैं। अंजीर में कैल्शियम और फाइबर काफी मात्रा में होते हैं जो इलाज में मदद करते हैं।

2-3 बादाम और सुखी अंजीर पानी में भिगोकर कुछ घंटे के लिए रखे। उसके बाद भीगे बादमो का छिलका उतार कर उन्हें अंजीर के साथ पीस कर पेस्ट बना ले। इस पेस्ट को एक चमच्च शहद के साथ रात को सोने से पहले ले।

3. निम्बू

निम्बू के रास में ऐसे यौगिक होते हैं जो पाचन तंत्र को उत्तेजित करते हैं जिससे ऐसे पाचन रस का स्त्राव होता हैं जो कब्ज़ तोड़ने में मददगार होते हैं। निम्बू में जो एसिडिक नेचर होता हैं उससे आंतो की सफाई होती है। निम्बू से मिलने वाले फाइबर से भी कब्ज़ में आराम मिलता हैं।

इस कब्ज के घरेलू उपाय को करना बहुत आसान हैं। आपको एक गिलास हलके गर्म पानी में एक निम्बू निचोड़ना हैं और उसम थोड़ा नमक मिलाकर उसका सेवन खाली पेट करना हैं। कब्ज़ दूर करने के लिए इस घरेलू इलाज को कुछ दिनों तक लगातार करे।

4. बेकिंग सोडा

कब्ज़ का घरेलू इलाज में बेकिंग सोडा आसान और एक सस्ता उपाय हैं। इससे पाचन की दूसरी समस्याएं जैसे की पेट की गैस, एसिडिटी और बदहज़मी में भी फायदा मिलता हैं। बड़ो के साथ में बच्चो के कब्ज़ में भी ये नुस्खा काफी फायदेमंद होता हैं।

एक गिलास पानी में एक चमच्च बेकिंग सोडा पाउडर मिलाए और पीले। जल्दी कब्ज़ में आराम पानी के लिए ये नुस्खा सुबह के समय खाली पेट करे।

5. पालक

पालक फाइबर और ऑक्सेलिक एसिड से भरपूर हरी सब्जी हैं। इसके अलावा पालक में फोस्फोरस और कैल्शियम भी उच्च मात्रा में पाया जाता हैं। जो पाचन तंत्र को कई फायदे पहुंचाते हैं।

जो लोग लम्बे समय से कब्ज़ से पीड़ित हैं उन्हें अपनी डाइट में नियमित रूप से पालक की सब्जी लेना चाहिए। और जिन्हे कब्ज़ ज्यादा हैं और तुरंत आराम चाहते हैं तो आधा गिलास पालक का जूस और उतना ही उसमे पानी मिलाकर पिए। इसके नियमित सेवन से कुछ ही दिनों में आपको कब्ज़ से छुटकारा मिल जायगा।

 

कब्ज़ का आयुर्वेदिक इलाज का घरेलू नुस्खा/दवा

कब्ज़ का आयुर्वेदिक इलाज दवा

कब्ज़ के आयुर्वेदिक ट्रीटमेंट की बात की जाए तो उसके लिए त्रिफला चूर्ण एक रामबाण इलाज हैं। ये हर्बल चूर्ण असर तुरंत रातो रात दिखाता हैं। त्रिफला हरितकी, बिभीतक और अमलकी नाम के पौधों से मिलकर तैयार किया जाता हैं। इसके सेवन से पाचन क्रिया में सुधार आता हैं। आंतो की मांसपेशियों में संकुचन बेहतर होता हैं और पाचन रास के स्त्राव से मल मुलायम होता हैं जिससे कब्ज़ दूर होकर पेट साफ़ हो जाता हैं। त्रिफला कर्ण को कब्ज़ का घरेलु इलाज के लिए दवा के रूप में इस्तेमाल किया जाता हैं।

त्रिफला चूर्ण का सेवन रात के समय सोने से पहले करना होता हैं। ध्यान रहे इसे लेने के बाद कुछ भी खाना पीना नहीं होता। एक गिलास गर्म पानी में 2  चमच्च त्रिफला चूर्ण की मिलाए और पिए। सुबह उठते ही टॉयलेट में जाए और कुछ मिंटो में ही आपका पेट साफ़ हो जायगा।

 

कब्ज़ से बचने के उपाय : Kabz ke Upay in Hindi

  • अपने खाने का टाइम टेबल बनाए और उसी के अनुसार समय पर भोजन करे। लेटरिन करने जाने का भी एक टाइम फिक्स करे और कोशिश करे उसी समय जाए।
  • डिब्बाबंद खाने से परहेज करे। तले मसालेदार खानो भी कम से कम खाए। ऐसे खाने आसानी से हजम नहीं हो पाते और कब्ज़ को न्योता देते हैं।
  • जिन लोगो को एक जगह बैठे रहना पड़ता हैं वो रोजाना एक्सरसाइज करना शुरू करे।
  • पानी ज्यादा पिए, जितना ज्यादा पानी पिएंगे उतना खुश्की काम होगी और कब्ज़ दूर करने में मदद मिलेगी।
  • अगर मल त्यागने के इच्छा हो तो उसे अधिक समय तक ना रोके। अगर आप ज्यादा रोक कर रखोगे तो कब्ज़ की समस्या और ज्यादा बढ़ती जायगी।

दोस्तों हिंदी में हेल्थ का ये लेख कब्ज़ का इलाज के घरेलू नुस्खे : Kabz ka ilaj Upay in Hindi? आपको कैसा लगा निचे कमैंट्स के जरिये अपनी अपनी राय हम तक जरूर पहुंचाए।

Leave a Comment