LFT (Liver Function Test) क्या होता हैं? कीमत, प्रक्रिया, नार्मल रिपोर्ट

LFT (Liver Function Test) in Hindi : लिवर फंक्शन टेस्ट जिसे LFT के नाम से जाना जाता हैं ये एक तरह का Blood Test होता हैं जिसे लीवर में नुकसान या बीमारी को जांचने के लिए किया जाता हैं। लीवर शरीर का एक अहम अंग होता हैं जो खाने को हजम करने, खून की सफाई और प्रोटीन का उत्पादन जैसे कई महत्वपूर्ण काम करता हैं। इस टेस्ट में खून लिया जाता हैं जिसमे कुछ विशेष प्रकार के एंजाइम और प्रोटीन लेवल की जांच की जाती हैं। उन्ही के आधार पर रिजल्ट आता हैं की लिवर में कितना नुकसान हैं और अगर कोई बीमारी हैं तो उसका ट्रीटमेंट किया जाता हैं। चलिए आज जानते हैं LFT Test क्या हैं? इसे कराने में पैसे कितने लगते हैं और इसकी प्रक्रिया, नार्मल रिजल्ट और अन्य जानकारी।

LFT कैसे किया जाता हैं : Liver Function Test in Hindi

इस टेस्ट को करने के लिए Blood की आवश्यकता होती हैं इसलिए पहले नस से खून लिया जाता हैं। LFT Test से पहले डॉक्टर आपको खाने पीने से जुड़े कुछ परहेज़ बतायगा, ज्यादातर लोगो का ये टेस्ट खाली पेट ही किया जाता हैं। इसके अलावा डॉक्टर आपको किसी भी दवाई लेने से भी रोक सकता हैं। क्योंकि कुछ मेडिसिन और खाने खून में एंजाइम और प्रोटीन की मात्रा को प्रभावती कर सकते हैं जिससे टेस्ट रिजल्ट भी गलत आ सकता हैं। इसलिए जो भी निर्देश डॉक्टर दे उनका गंभीरता से पालन करे।

LFT Liver Function Test cost result in Hindi

लिवर फंक्शन टेस्ट क्यों किया जाता है?

जैसा की इस टेस्ट के नाम से ही प्रतीत होता हैं इसे लिवर की जांच के लिए किया जाता हैं। लीवर सही से काम कर रहा हैं या नहीं, लिवर की कमजोरी, सूजन और दूसरी कोई बीमारी जानने के लिए LFT किया जाता हैं। निचे कुछ ऐसे ही लिवर संबधित समस्याए हैं जिनसे इस टेस्ट में आये रिजल्ट के आधार पर जांचा जाता हैं।

  • लिवर में होने वाला संक्रमण (इन्फेक्शन) जैसे कि हेपेटाइटिस।
  • लिवर की किसी बीमारी का इलाज चल रहा हैं तो उसके दौरान ये जानने के लिए की वो कितनी ठीक हुई हैं।
  • कुछ ऐसे मेडिसिन हैं जिनके लेने से लीवर पर उनकी वजह से कुछ नुकसान हो सकते हैं। LFT टेस्ट में उन्हें भी जाना जाता हैं।
  • लीवर की कोई बिमारी या नुकसान की गंभीरता जांचने के लिए भी लीवर फंक्शन टेस्ट किया जाता हैं।

इन सभी समस्याओ को LFT Test में लीवर द्वारा किये जाने वाले कामो के आधार पर जांचा जाता हैं। लिवर हमारे शरीर में जो मुख्य काम करता हैं वो निचे दिए हैं।

  1. हम जो खाते पीते हैं लीवर उन खाद्य पदार्थो को पौषक तत्वों में परिवर्तित करता हैं।
  2. प्रोटीन, एंजाइम, कोलेस्ट्रोल का निर्माण करता हैं।
  3. खून से हानिकारक रसायनों को अलग करना।
  4. हमारे खाने से बैक्टीरिया को अलग करने का काम भी लीवर करता हैं।
  5. हारमोंस संतुलन और एक उचित ब्लड शुगर बनाए रखना।
  6. विटामिन्स और मिनरल को स्टोर रखना।

LFT Test करने के Risk क्या होते हैं?

इस परीक्षण को करने के लिए आपके हाथ या बाजू की नसों से ब्लड लिया जाता हैं। इसमें आमतौर पर कोई बड़ा रिस्क या साइड इफ़ेक्ट नहीं होता। हालाँकि Blood Sample लेते समय किसी तरह की चोट नसों में लग सकती हैं। इसके अलावा कुछ और नुकसान हो सकते हैं।

  • खून ज्यादा बह जाना
  • बेहोश हो जाना
  • इन्फेक्शन होना
  • त्वचा के अंदर ही ब्लीडिंग होना

Liver Function Test होने में लगने वाला समय

टेस्ट के लिए लिए जाने वाले खून को laboratory में भेजा जाता हैं। अगर लैब उसी हॉस्पिटल में हैं यानी उसी जगह हैं तो कुछ ही घंटो में आपको LFT Test Report मिल जायगी। अगर लैब वहा नहीं है तो डॉक्टर आपसे लिए Blood Sample को किसी दूसरी जगह लैब में भेजते हैं वहा उसकी रिपोर्ट तैयार की जाती हैं जिसमे कुछ दिनों का समय भी लग सकता हैं।

LFT Test के बाद : After Liver Function Test

लफत टेस्ट हो जाने के बाद आपको किसी तरह का खाने पीने का परहेज करने की जरुरत नहीं होती। अगर किसी को टेस्ट के लिए ब्लड देने के बाद चक्कर आना, अँधेरा छाने जैसे समस्या आती हैं तो उसे कुछ समय के लिए आराम कर लेना चाहिए। टेस्ट में कुछ ख़ास एंजाइम, प्रोटीन, बिलीरुबिन और कुछ अन्य तत्वों की जांच की जाती हैं उसी के अनुसार पता लगता हैं की लीवर सही से काम कर रहा हैं या नहीं। एक स्वस्थ सही से काम कर रहे लिवर की LFT Report कुछ इस तरह से होती हैं।

LFT Blood Test Normal Report

  • ALT (Alanine transaminase) – 7 to 55 U/L
  • LD (L-lactate dehydrogenase) – 122 to 222 U/L
  • AST (Aspartate transaminase) – 8 to 48 U/L
  • GGT (Gamma-glutamyltransferase) – 9 to 48 U/L
  • PT (Prothrombin time) – 9.5 to 13.8 seconds
  • ALP (Alkaline phosphatase) – 45 to 115 U/L
  • Albumin – 3.5 to 5.0 g/dL
  • Bilirubin – 0.1 to 1.0 mg/dL
  • Protein – 6.3 to 7.9 g/dL

ये नार्मल टेस्ट रिजल्ट एक व्यस्क पुरुष के लिए हैं। महिलाओ और बच्चो के लिए रिजल्ट अलग हो सकते हैं। इसके अलावा अलग अलग लैब के लिए भी रिजल्ट थोड़े कम ज्यादा हो सकते हैं। LFT Test Result खाने पीने और दवाइयों के सेवन से प्रभावित हो सकता हैं। इसलिए डॉक्टर इस टेस्ट को करने से कुछ समय पहले तक खाना पीना बंद करने के लिए बोलते हैं।

टेस्ट की जो रिपोर्ट आती हैं उसके आधार पार डॉक्टर निर्धारित करते हैं की आपको लीवर की कोई समस्या हैं या नहीं। अगर कोई लिवर की बीमारी हैं तो डॉक्टर उसके आगे का ट्रीटमेंट शुरू करते हैं। इसके अलावा जब लीवर में कमजोरी, सुजन या दूसरी किसी बीमारी का इलाज चल रहा होता हैं तो डॉक्टर उसमे दवाइयों का इतना असर हुआ हैं, ये पता लगाने के लिए भी ये टेस्ट करते हैं और रिजल्ट के बाद आगे का ट्रीटमेंट फिर से शुरू करते हैं।

दोस्तों हिंदी में हेल्थ की आज की ये जानकारी लिवर फंक्शन टेस्ट क्या हैं : LFT (Liver Function Test) in Hindi? आपको अच्छी लगी हैं तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर जरुर करे।

Leave a Reply

error: Content is protected !!