लक्षण

पथरी (किडनी स्टोन) होने के 7 शुरूआती लक्षण

गुर्दे की पथरी नमक और मिनरल का ठोस संग्रह होता हैं जो कैल्शियम और यूरिक एसिड से बना होता हैं। गुर्दे यानी किडनी में बनी पथरी गुर्दे से पेशाब के रस्ते में भी आ सकती हैं। पथरी का साइज़ छोटा या बड़ा हो सकता हैं। पथरी होने का एक आम लक्षण तेज़ दर्द होना आता हैं। अगर समय पर पथरी होने का पता चल जाए तो बिना सर्जरी के भी इससे छुटकारा पाया जा सकता हैं। आज हम जानेंगे गुर्दे में पथरी होने के शुरूआती लक्षण।

पथरी बनती कैसे हैं?

जब शरीर में किसी खनिज की मात्रा काफी ज्यादा बढ़ जाती हैं जिसे शरीर पेशाब के रस्ते बाहर निकालने की कौशिश करता हैं जिससे वो खनिज गुर्दों में इकठ्ठा होना शुरू हो जाता हैं। जब हम पानी कम पीते हैं जिससे बॉडी हाइड्रेट नहीं हो पाती और पेशाब कम बनता हैं और वो खनिज तेज़ी से शरीर से बाहर नहीं निकल पाता। ऐसे में खनिजो की मात्रा यूरिन में बढती जाती हैं जो पथरी का रूप ले लेती हैं।

गुर्दे की पथरी चिकनी और नुकीली हो सकती हैं। ज्यादातर छोटे पथरी के टुकड़े अपने आप ही पेशाब के रास्ते बाहर निकल जाते हैं। जिनका कई बार आपको पता भी नहीं चलता। जब पथरी का आकार बड़ा होता हैं या वो खुरदरी होती हैं और बॉडी पेशाब के जरिए उन्हें बाहर निकालने की कौशिश करती हैं तो मूत्रमार्ग में फस जाती हैं जिससे बहुत तेज़ दर्द होता हैं।

पथरी होने के लक्षण : Kidney Symptoms in Hindi

पथरी होने के लक्षण : Kidney Symptoms in Hindi

महिलाओ और पुरुषो में पथरी होने के लक्षण एक जैसे ही होते हैं। जब पथरी का साइज़ काफी छोटा होता हैं तो ऐसे में कई बार लक्षण नज़र नहीं आते। पर जैसे ही इसका आकार बढ़ता हैं और वो मूत्रमार्ग में प्रवेश करती हैं तब तेज़ दर्द जैसे लक्षण दिखाई देने लगते हैं। चलिए जानते हैं पथरी के आम लक्षण।

1. तेज़ दर्द

किडनी स्टोन पर तेज़ दर्द होना एक आम लक्षण होता हैं। ये दर्द पेट के बीच में, पेट के एक साइड या फिर पीठ में हो सकता हैं। पथरी का दर्द इतना तेज़ होता हैं की कुछ लोग इसको महिलाओ के प्रसव पीड़ा में होने वाले दर्द और चाक़ू से काटने जैसे दर्द के जैसा बताते हैं। जैस ही पथरी मूत्रमार्ग में आती हैं दर्द महसूस होने लगता हैं।

पथरी मूत्रमार्ग में फसने से एक रुकावट पैदा होती हैं जिससे किडनियों पर दबाव बन जाता हैं। उस दबाव से दिमाग को दर्द के सिग्नल पहुचते हैं जिससे दर्द महसूस होता हैं। पथरी का दर्द अचानक और तेज़ होता हैं ये दर्द तब और बढ़ जाता हैं जब मूत्रमार्ग में स्टोन को धकेलने का प्रयास होता हैं। आपको ये दर्द पेट और पीठ दोनों में एक साथ हो सकता हैं।

2. बार बार पेशाब आना

अगर आपको पेशाब की तीर्व इच्छा हो रही हो और नार्मल के मुकाबले बार बार पेशाब करने जाना पड़ रहा हो तो ये एक पथरी का लक्षण हो सकता हैं। जब पथरी पेशाब रास्ते के निचले हिस्से में प्रवेश कर गयी हो। हालाँकि जायदा पेशाब आना यूरिन इन्फेक्शन का भी एक लक्षण हो सकता हैं। अगर आपको लगे की बार बार बाथरूम जाना अपड रहा हैं तो तुरंत डॉक्टर से मिले और पथरी के टेस्ट के लिए अल्ट्रासाउंड कराए।

3. पेशाब में दर्द और जलन

जब किडनी स्टोन मूत्रमार्ग से ब्लैडर के जुड़ने वाले जगह पर पहुचता हैं तब आपको पेशाब करते समय दर्द महसूस होने लगता हैं। ये दर्द तीखा और बहुत तेज़ हो सकता हैं और दर्द के साथ में जलन भी होती हैं। पेशाब त्यागते समय होने वाले दर्द और जलन से कुछ लोगो को यूरिन इन्फेक्शन का भी भ्रम हो सकता हैं। कई बार यूरिन इन्फेक्शन और पथरी दोनों भी हो सकते हैं।

4. जी मिचलाना और उल्टिया लगना

जिन महिला या पुरुषो के गुर्दे में पथरी होती हैं उनमे जी मिचलाना और उल्टिया लगना एक आम लक्षण के रूप में सामने आता हैं। इन लक्षणों के सामने आने का कारण होता हैं किडनी और पाचन तन्त्र की तंत्रिकाओ में एक कनेक्शन होना। पथरी होने पर जैसे दर्द के सिग्नल दिमाग तक पहुचते हैं तो वैसे ही कुछ ऐसे सिग्नल भी दिमाग तक जाते हैं जिनसे पेट ख़राब होना महसूस होता हैं।

5. यूरिन में बदबू आना

हेल्थी पेशाब में ज्यादा बदबू नहीं होती। पेशाब में तेज़ बदबू होने के साथ में झाग बनना यूरिन इन्फेक्शन का संकेत हो सकता हैं। और एक स्टडी से निकलकर आया हैं की जिन लोगो को पथरी होती हैं उन्हें पेशाब में संक्रमण होने की संभावना भी काफी होती हैं। पेशाब में झाग पस होने के संकेत होते हैं और अधिक बदबू बैक्टीरिया की वजह से बन जाती हैं।

6. पेशाब में रुकावट

आप पेशाब जाने की इच्छा तो हो रही हैं पर जब आप पेशाब करते हैं तो वो काफी कम आता हैं। ऐसा तब मुमकिन होता हैं जब पथरी पेशाब के रस्ते में आ गयी हैं जिससे रुकावट पैदा होती हैं और यूरिन पूरा नहीं आ पाता। कई बार पेशाब बिलकुल ही रुक जाता हैं ऐसे में आपको बिना देरी किये तुरंत डॉक्टर के पास जाना चाहिए।

7. पेशाब में खून आना

यूरिन के साथ खून भी आना एक पथरी का लक्षण हो सकता हैं। पेशाब का रंग लाल, गुलाबी या भूरा होना खून का संकेत होता हैं। हालाँकि कई बार खून की कोशिकाए आकार में काफी छोटी होती हैं जिन्हें नंगी आखो से देखा नहीं जा सकता। जिन्हें देखने के लिए यूरिन टेस्ट करना जरुरी होता हैं जिसमे माइक्रोस्कोप में खून की मौजूदगी को जांचा जाता हैं।

अगर आपको उपर बताई हिंदी में हेल्थ की ये जानकारी गुर्दे में पथरी के लक्षण : Pathri ke Lakshan in Hindi? फायदेमंद लगी हो तो इसे अपने ओ के साथ भी जरुर शेयर करे।

Leave a Comment

error: Content is protected !!