पीरियड्स में दर्द का तुरंत इलाज के लिए 7 उपाय और घरेलू नुस्खे

पीरियड्स में पेट और कमर दर्द का इलाज : माहवारी के दिनों में सर दर्द, पेट और कमर के निचले हिस्से में दर्द, ब्लीडिंग, थकान, चिडचिडापन जैसे समस्याओ का सामना महिलाओ को हर महीने करना पड़ता हैं। खासकर पीरियड में दर्द (menstrual cramps) सबसे बड़ी परेशानी की बात होती हैं। डेट आने पर हर लड़की के मन में कभी न कभी ये ख्याल जरुर आता है की काश मैं लड़का होती। इन दिनों में हल्का दर्द होना नार्मल होता हैं पर कई बार ये काफी ज्यादा हो जाता हैं। इस दर्द को कम करने के लिए में पेनकिलर जैसे दवाओ का सहारा लेते हैं। जिनके नियमित लेने से कुछ साइड इफेक्ट्स भी होते हैं। आज के लेख में हम बताएँगे पीरियड (मासिक धर्म) में दर्द के कारण और उपाय

मासिक धर्म चक्र में होने वाले दर्द को डॉक्टरी भाषा में Dysmenorrhea में कहा जाता हैं। पीरियड्स की दिनों में गर्भाशय की मांशपेशियो में संकुचन होते रहते हैं जिनकी वजह से दर्द होता हैं। इसके अलावा भी कुछ कारण हैं जिनकी वजह से ये दर्द और ऐंठन ज्यादा बढ़ जाती हैं।

पीरियड्स में दर्द क्यों होता हैं?

  • पीरियड्स में हैवी ब्लीडिंग होना।
  • 20 से कम उम्र की लडकियों को दर्द ज्यादा होता हैं। विशेषकर जिनके हाल ही में पीरियड आने शुरू हुए हैं।
  • शरीर में प्रोस्टाग्लैंडिन नामक हार्मोन का निर्माण ज्यादा होना या इस हार्मोन के प्रति बॉडी का ज्यादा सवेदनशील होना।
  • जो महिलाए पहली बार माँ बनने जा रही हैं उन्हें मासिक धर्म चक्र के दौरान दर्द अधिक होता हैं।

जाने : सही समय पर पीरियड्स लाने के उपाय

पीरियड्स में पेट कमर दर्द का इलाज घरेलू उपाय

पीरियड में पेट कमर दर्द के घरेलू उपाय

Home Remedies for Periods Pain in Hindi

माहवारी में पेट और कमर के निचले हिस्से और टांगो में दर्द होने से परेशानी और बढ़ जाती हैं। ऐसे समय में आप कैसे भी दर्द से छुटकारा पाना चाहते हैं जिससे दर्द निवारक गोलिया खाने के सोचते हैं। पर उनकी जगह घर में ही कुछ उपाय करके पीरियड के दर्द में राहत मिल सकती हैं। तो चलिए जानते हैं ऐसे ही कुछ घरेलू नुस्खे

1. सरसों के तेल से मालिश

सरसों के तेल में अनेक फायदेमंद गुण होते हैं जिसे हम सब्जियों में भी आम तौर पर इस्तेमाल करते हैं। पीरियड में दर्द के इलाज में सरसों के तेल की मालिश एक रामबाण उपाय होता हैं। शीशम का तेल स्वभाव में एंटीऑक्सीडेंट होने के साथ एंटीऑक्सीडेंट गुणों से भरपूर होता हैं। इसमें लिनोलेइक एसिड भी होता हैं।

आयुर्वेद के अनुसार पीरियड्स में होने वाले पेट और कमर दर्द होने पर सरसों के तेल से हलके हाथो से मसाज़ करने से कुछ ही समय में दर्द में तुरंत राहत मिल जाती हैं।

2. गर्म सिकाई

MC में दर्द के उपचार के लिए गर्म सिकाई को एक आम उपाय के रूप में किया जाता हैं। गर्म पानी से पेट के निचले हिस्से की सिकाई करने से वहा की मांसपेशिया शांत होती हैं जिससे दर्द ठीक हो जाता हैं। असल में इस सिकाई को पैन किलर टेबलेट से भी ज्यादा असरदार माना जाता हैं।

जब भी इन दिनों में दर्द हो हीटिंग पैड से उस हिस्से की सिकाई करे। हीटिंग पैड नहीं हो तो एक प्लास्टिक की बोतल में गर्म पानी भरके उससे सिकाई करे। ये इकाई एक बार में 10 मिनट तक करे। जब भी दर्द महसूस हो ये उपाय करे।

3. ग्रीन टी

ग्रीन टी को वजन कम करने के लिए के अलावा उसके औषधीय गुणों के लिए भी जानते हैं। इसमें एंटीऑक्सीडेंट और विरोधी भड़काऊ गुण होते हैं जिससे Periods Pain के घरेलू उपचार में मदद मिलती हैं। ग्रीन टी में फ्लेवोनोइड्स नाम का कैटाचिन भी होता हैं जिससे ये पीरियड्स में दर्द की दवा रूप में भी काम करती हैं। एक कप पानी ग्रीन टी डालकर कुछ समय पकाए और ठंडा होने पर उसमे शहद मिलकर इसे पिए। माहवारी में दर्द होने पर दिन में 2-3 बार ग्रीन टी पिए।

4. मेथी के बीज

मेथी में त्रिफटोफन और लाइसाइन नाम के प्रोटीन होते हैं जो इसे निवारक गुण प्रदान करते हैं। एक गिलास पानी में कुछ मेथी के बीज भिगोकर रात को रखे और सुबह इन्हें पानी के साथ खाली पेट खाए। ये आपको पीरियड शुरू होने से कुछ दिन पहले से शुरू करना हैं और ये रोजाना एक बार ही करना हैं।

5. दही खाए

पीरियड में दर्द के घरेलू इलाज में दही खाना बहुत लाभदायक होता हैं। दही विटामिन डी और कैल्शियम का उच्च स्त्रोत होता हैं जो प्रीमेंस्ट्रुअल सिंड्रोम के लक्षणों को कम करने के साथ दर्द में भी राहत पहुचाता हैं। माहवारी के दिनों में एक कटोरी दही दिन में 2 बार खाए।

 

पीरियड्स के दर्द का इलाज में एक्सरसाइज और योगा

पीरियड्स में पेट और कमर दर्द होने पर एक्सरसाइज करना शायद आपको अजीब लगेगा पर ये बिलकुल सही हैं। ऐसे समय में हलकी फुलकी एक्सरसाइज करना दर्द को कम करने का काम करती हैं। ऐसे समय में कुछ योगा और व्यायाम करने से पेल्विक हिस्से में में खून का दौरा बढ़ता हैं और दर्द में राहत मिलती हैं। महिलाओ को इन दिनों में दर्द होने पर प्राणायाम और शवासन करना चाहिए। ये योगासन कैसे करने है उसके लिए यूट्यूब वीडियो देख सकते हैं।

पैरो की मसाज करने से भी माहवारी के दर्द से तुरंत छुटकारा पाया जा सकता हैं। पैरो में कई ऐसे प्रेशर पॉइंट्स होते हैं जिन पे जब दबाव पड़ता हैं तो उससे दर्द में आराम मिलने लगता हैं। अपने अंगूठे और उंगलियों से पैरो के तलवो की मसाज करे।

 

माहवारी में दर्द से बचने के टिप्स

  1. ज्यादा मीठे और नमक के खानो का सेवन कम करे।
  2. पीरियड्स में पानी की कमी हो जाती हैं। इसलिए पानी ज्यादा पिए और ताज़ा फलो के रस भी पिए।
  3. शराब और धूम्रपान बिलकुल बंद कर दे।
  4. दर्द का इलाज के लिए एक्यूपंक्चर की मदद ली जा सकती हैं। एक्यूपंक्चर करने से अंदरूनी अंगो में खून का दौरा बेहतर होता हैं। जिससे दर्द के उपचार में मदद मिलती हैं।
  5. ज्यादा ऑयली खानों से परहेज़ करे। वसा मुक्त हरी सब्जियों और फलो को अपनी डाइट में शामिल करे।

दोस्तों हिन्दीमेहेल्थ के इस जानकारी पीरियड्स में दर्द का इलाज के उपाय और घरेलू नुस्खे? के बारे में अपने सवाल और विचार कमेंट्स में जरुर लिखे। हमारी किसी बहन को किसी और उपाय से माहवारी के दर्द में आराम हुआ है तो उसे भी शेयर करना ना भूले।

Leave a Reply

error: Content is protected !!