प्रेगनेंसी

प्रेगनेंसी रोकने के 10 सफल उपाय तरीके और टेबलेट

प्रेगनेंसी रोकने और प्रेग्नेंट होने से बचने के उपाय : महिला और पुरुष आपसी सम्बन्ध बनाने के पहले कई बार जरुरी सुरक्षा लेना भूल जाते हैं जिसे उन्हें अनचाही प्रेगनेंसी का सामना करना पड़ सकता हैं। वही कुछ महिलाए ऐसे भी हैं जो कंडोम और दुसरे प्रोटेक्शन लेने के बावजूद प्रेग्नेंट हो जाते हैं ऐसे में उन्हें कैसे भी करके प्रेगनेंसी रोकना होता हैं। जिसके लिए वो गर्भ निरोधक गोलियों (Tablet) का सेवन और दूसरे उपाय अपनाती हैं। आज हम ऐसे ही कुछ प्रेगनेंसी रोकने और गर्भावस्था से बचने के आसन तरीके, घरेलू नुस्खे और टेबलेट का नाम बताएँगे।

जब भी हम असुरक्षित सम्बन्ध बनाते हैं तो गर्भवती होने के संभावना रहती ही हैं। इसलिए जो लोग अभी बच्चा नहीं चाहते उन्हें पहले तो कंडोम जैसे प्रोटेक्शन लेनी चाहिए। उसके अलावा भी कुछ ऐसे टिप्स हैं जिन्हें ध्यान में रखकर प्रेगनेंसी को रोका जा सकता हैं। हालाँकि ऐसा भी नहीं है की इन्हें करने से 100% प्रेगनेंसी नहीं होगी पर फिर भी काफी हद तक प्रेगनेंसी से बचा जा सकता हैं।

प्रेगनेंसी रोकने के उपाय : pregnancy rokne ke upay tarike

प्रेगनेंसी से बचने के उपाय : How to Avoid Pregnancy in Hindi

  1. गर्भावस्था से बचने के लिए सबसे आसान तरीका होता हैं कंडोम का इस्तेमाल करना। हलांकि सब इस तरीके से वाकिफ होंगे पर फिर भी बहुत से लोग इसके इस्तेमाल से बचते हैं जिससे रिजल्ट में प्रेगनेंसी हो जाती हैं। इसलिए जिन्हें अभी बच्चा नहीं चाहिए वो आपसी मेल से पहले कंडोम का इस्तेमाल जरुर करे। पुरुषो और महिलाओ दोनों के लिए कंडोम मिल जाती हैं। पर प्रेग्नेंट होने से बचने के लिए पुरुषो के लिए कंडोम को ज्यादा असरदार माना जाता हैं।
  2. कुछ लोगो को कंडोम के इस्तेमाल में वो आनंद नहीं आता। ऐसे में प्रेगनेंसी से बचने के उपाय मे मेल का समय काफी महत्व रखता हैं। महिलाओ में एक ओवुलेशन पीरियड होता हैं जिसे प्रेग्नेंट होने का सबसे बेस्ट समय मन जाता हैं। मतलब इस समय में अगर सम्बन्ध बनाए जाते तो महिला के गर्भवती होने की संभावना ज्यादा रहती हैं। ओवुलेशन पीरियड 5 से 7 दिन का होता हैं जो पीरियड के शुरू होने  9वे दिन से लेकर 15-16वे दिन तक के बीच का हो सकता हैं। तो जिन्हे प्रेगनेंसी रोकनी हैं तो वो इन दिनों दिनों में आपसी मेल ना बनाए।
  3. प्रेगनेंसी से बचने के लिए कॉपर टी भी एक अच्छा विकल्प हैं। कॉपर टी को महिला के गर्भाशय के अंदर लगाया जाता हैं जिससे मेल के दौरान स्पर्म अंदर पहुच नहीं पाता और जिससे गर्भ नहीं ठहर पाता। कॉपर टी को एक बार लगवाने से ही कई सालो तक बिना प्रेगनेंसी के डर के मेल बना सकते हैं।
  4. गर्भ ठहरने से बचने के इस उपाय में गर्भ निरोधक गोलिया (Contraceptive pills) आती हैं इन टेबलेट को असुरक्षित मिलाप के 24 से 72 घंटे के अंदर ही लिया जाना होता हैं। ऐसे मेडिसिन काफी असरदार होती हैं। 95% से ज्यादा मामलो में इनके सेवन से प्रेगनेंसी से बचा जा सकता।
  5. प्रेगनेंसी रोकने के इंजेक्शन भी लिए जा सकते हैं जिनसे गर्भवती की संभावना काफी हद तक खत्म हो जाती हैं। ये इंजेक्शन डॉक्टर हर 12वे हफ्ते में लगता हैं। देखा गया हैं ये इंजेक्शन लेने के बाद दोबारा प्रजनन क्षमता सामान्य पाने में 10 महीने तक का समय लग सकता हैं।

 

प्रेगनेंसी रोकने के घरेलू नुस्खे और तरीके

गर्भ ठहरने से रोकने के लिए मेडिसिन और इंजेक्शन लेने की जगह कुछ घरेलू नुस्खो से भी प्रेगनेंसी से बचा जा सकता हैं। ऐसे घरेलू तरीको का फायदा ये हैं की इनके साइड इफ़ेक्ट ना के बराबर होते हैं और बिना ज्यादा पैसे लगाये इन्हें अपने घर पर ही तैयार किया जा सकता हैं।

1. पपीता : अगर आपने बिना किसी सुरक्षा के सम्बन्ध बनाए हैं और आपको दर है की प्रेगनेंसी हो सकती हैं। ऐसे में पपीता खाने से गर्भावस्था से बचा जा सकता हैं। गर्भ में बच्चा बनने से रोकने में पपीता एक असरदार घरेलू नुस्खा हैं। पपीता खाने से पुरुषो में भी शुक्राणु की कमी होती हैं। ऐसा नहीं की पपीता खाने से हमेशा से पुरुषो में शुक्राणु कम हो जाते हैं जब पपीता खाना बंद करते हैं फिर से नार्मल होना शुरू हो जाता हैं। महिलाए मेल करने के 3-4 दिन तक लगातार पपीता खाए।

2. खुबानी : प्रेग्नेंट ना होने के लिए खुबानी खाना काफी फायदेमंद होता हैं। नेचुरल तरीके से बच्चा रोकने के लिए खुबानी एक आयुर्वेदिक दवा के रूप में काम करती हैं। एक गिलास पानी में 100 ग्राम खुबानी डालकर उसे 20 मिनट तक उबाले। इसके बाद उसे थोडा ठंडा करके 2 चमच्च शहद की मिलाये और उसे पीले। इसके जगह जब भी सम्बन्ध बनाए उसके बाद 5-10 खुबानी भी खा सकते हैं।

3. नीम : प्रेगनेंसी रोकने के तरीके में नीम भी कारगर घरेलू नुस्खा होता हैं। नीम होम रेमेडी को कई तरीको से लिया जा सकता हैं। पहला सरल तरीके में बस महिला को संबंध के बाद 3-4 दिन तक रोज नीम के पत्ते चबाने हैं। दूसरा तरीका जो ज्यादा असरदार होता हैं उसमे नीम के तेल को गर्भाशय और फैलोपियन ट्यूब के जुड़ने वाली जगह पर इंजेक्शन के जरिए डाला जाता हैं जिससे डॉक्टर की देख रेख में ही किया जाता हैं।  नीम की टेबलेट लेने से पुरुषो में अस्थायी बांझपन आता हैं।

4. सूखी अंजीर : Birth Control के लिए अंजीर खाने को एक अच्चा घरेलू उपाय माना जाता हैं। आपसी मेल करने के बाद 2-3 सुखी अंजीर खाए। ध्यान रहे ज्यादा अंजीर ना खाए, जिससे पेट ख़राब हो सकता हैं।

5. कपास की जड़ : कपास की जड़ो में कुछ ऐसे गुण होते हैं जो ऑक्सीटोसिन हार्मोन निकलने में अदद करता हैं जिससे प्रसव होने की संभावना बनती हैं। इसलिए कपास के इस आयुर्वेदिक घरेलू नुखे को प्रेगनेंसी रोकने के लिए असरदार माना जाता हैं। कपास की जड़ो को पानी में डालकर उबाले और ऐसे चाय को दिन में 2 बार पिए।

 

प्रेगनेंसी रोकने की मेडिसन (दवा) : Pregnancy rokne ki Tablet

प्रेगनेंसी रोकने की मेडिसिन की बात की जाए तो कई तरह की टेबलेट और दूसरी दवाइया मिल जाती हैं। प्रेगनेंसी से बचाने के लिए ले जाने वाली टेबलेट को गर्भ निरोधक गोली (Contraceptive pills) कहते है। ऐसे टेबलेट को बना सुरक्षा लिए मेल करने के 24 घंटे से 72 घंटे के अंदर ही लेना होता हैं तभी इनका असर दिखाई देता हैं। प्रेगनेंसी रोकने की इन टेबलेट को लेने से 80 से 90% रिजल्ट मिल जाते हैं। हमारे बहुत से पाठको का ये सवाल काफी आम रहता हैं की प्रेगनेंसी रोकने की टेबलेट का नाम क्या हैं? निचे कुछ ऐसे ही टेबलेट के नाम दिए गए हैं जो गर्भ ठहरने से रोकने का काम करती हैं। इन्हे आप किसी भी मेडिकल स्टोर से ले पाएंगे।

  • Unwanted 72
  • i Pill Tablet
  • Truston 2
  • Preventol

जाने : घर पर प्रेगनेंसी टेस्ट कैसे करे

दोस्तों हिंदी में हेल्थ का ये लेख प्रेगनेंसी से बचने के उपाय : Pregnancy rokne ke upay tarike in Hindi? कैसा लगा हमें कमेंट में लिखकर जरुर बताए। गर्भावस्था से बचने को लेकर अपने सवाल भी आप निचे कमेंट्स में पूछ सकते हैं।

Leave a Comment

error: Content is protected !!