सर्दी खांसी जुखाम के 10 घरेलू उपचार और आयुर्वेदिक नुस्खे

सर्दी जुखाम का इलाज इन हिंदी : सर्दियों का मौसम शुरू होते हैं सर्दी, जुखाम, खांसी, नाक बहना, गले में खरांश, छींक आना जैसे समस्याए घर में किसी न किसी को हो ही जाती हैं। कुछ लोगो को बार बार जुखाम और सर्दी लग जाती हैं जिसका एक बड़ा कारण रोग प्रतिरोधक अक्षमता का कमज़ोर होना भी होता हैं। ठंड लगने पर सर दर्द और बुखार भी हो सकता हैं जिससे तकलीफ और बढ़ जाती हैं। ऐसे में रोजमर्रा के छोटे मोटे काम करना भी मुश्किल बन जाता हैं। हालाँकि इसे कोई गंभीर बिमारी नहीं माना जाता, ज्यादतर मामलो में कुछ घरेलू नुस्खे से ही सर्दी जुखाम ठीक हो जाता हैं। इसलिए सर्दी लगने (common cold) पर अंग्रेजी दवाइयों की जगह घरेलू उपाय या आयुर्वेदिक दवाई लेने की सलाह दी जाती हैं।

सर्दी खांसी और जुखाम 200 से ज्यादा अलग अलग तरह के वायरस इन्फेक्शन से होता हैं। जब मौसम में बदलाव होता हैं तो हमारी बॉडी भी उसके अनुसार ढलने की कौशिश करती हैं। जिनकी इम्युनिटी शक्ति कमज़ोर और शरीर में विटामिन D, C की कमी होती हैं उनको सर्दी लगने की संभावना अधिक रहती हैं। डॉक्टर का कहना सर्दी जुखाम एक व्यक्ति से दुसरे तक फ़ैल सकता हैं। अगर आपको जुखाम हुआ हैं तो ज्यादा से ज्यादा पानी पीना जल्दी राहत पाने में मदद करता हैं।

सर्दी जुखाम का इलाज उपचार : Sardi jukam ka ilaj

सर्दी जुखाम के उपचार के घरेलू नुस्खे

1. सर्दी जुखाम होने पर लहसुन का सेवन करने से तुरंत आराम मिल जाता हैं। लहसुन एंटीवायरल और एंटीमाइक्रोबायल होता हैं जिससे लहसुन उन वायरस को ख़त्म करता हैं जिनसे ठण्ड लगती हैं। 1-2 लहसुन की कली पीस कर उन्हें शहद के साथ ले। दिन में 2 बार ये घरेलू नुस्खा करे।

2. एक गिलास हल्के गर्म पानी में एक चमच्च सेब का सिरका और उतना ही शहद मिलाये और उसे पिए। जुकाम और सर्दी जब होती है तो वायरस की वजह से शरीर में ph लेवल बिगड़ जाता हैं। सिरका ph लेवल संतुलित करके वायरस को मारने के काम करता हैं जिससे सर्दी का इलाज करने में मदद मिलती हैं।

3. गर्म पेय पीने से सर्दी जुखाम से तेज़ी से उभरने में मदद मिलती हैं। ग्रीन टी एंटीऑक्सिडेंट का उच्च स्त्रोत हैं जिससे जुकाम के इलाज में और फायदा मिलता हैं। 250 ml पानी को उबाले और उसमे एक ग्रीन टी बैग 5 मिनट तक डाले। थोडा ठंडा होने पर उसमे एक चमच्च निम्बू रस मिलाये और उसे पिए।

4. सर्दी जुखाम के घरेलू उपचार के लिए प्याज़ का ये नुस्खा एक कारगर उपाय हैं। प्याज़ में विरोधी भड़काऊ गुण होते हैं जिससे ये गले और नाक में जमा बलगम को बाहर निकलता हैं। और गले और सांस लेने के रस्ते में संक्रमण की वजह से आई सूजन को कम करता हैं। प्याज़ को स्लाइस में काटे और प्रत्येक स्लाइस को पूरी तरह शहद से ढके और उसे ऐसे बर्तन में रखे जिसमे हवा ना जाने पाए। रात भर ऐसे ही रखे रहने के बाद सुबह 1-2 प्याज़ की स्लाइस खाए।

5. हल्दी एक एंटीबायोटिक दवा के जैसे काम करता हैं। गले और छाती में हुए इन्फेक्शन को ख़त्म करने सर्दी में आराम पहुचाता हैं। जब भी किसी को सर्दी जुखाम की शिकायत हो वो रात को सोने से पहले एक गिलास गर्म दूध में एक चमच्च हल्दी पाउडर मिलकर पीले।

6. अगर आप मांसाहारी हैं तो सर्दी जुखाम के घरेलू उपाय के लिए चिकन का सेवन करे। गर्म चिकन सूप का सेवन गाढे बलगम को पिघला कर नाक से बहकर बाहर निकालने का काम करता हैं। चिकन सफ़ेद रक्त कैशिकाओ की की वृद्धि होने से भी रोकता हैं जो सर्दी के लक्षणों को बढाता हैं। अगर आप शाकाहारी हैं तो चिकन सूप की जगह सब्जियों के सूप का सेवन कर सकते हैं।

7. आंवला खाने से रोग प्रतिरोधक शक्ति बेहतर होती हैं। अगर आपको बार बार सर्दी या गर्मी में जुखाम होता रहता हैं तो आंवले का सेवन करना शुरू करे। आंवला खाने से खून का दौरा अच्छा होता हैं और लीवर में भी फायदा होता हैं।

8. सर्दी खांसी के साथ गले में खराश होने पर अदरक के छोटे टुकड़े पर नमक लगाये और उसे चबाकर खाए। इससे आपको जल्द राहत महसूस होने लगेगी।

9. जुखाम होने का एक बड़ा कारन विटामिन d और c की कमी होना होता हैं। एक सही इम्युनिटी बनाए रखने के लिए इन विटामिन्स का सेवन किया जाना चाहिए। खासकर जब सर्दी ठीक हो जाए, आगे के लिए इससे बचने के लिए Vitamin C और D supplements का सेवन करे।

10. दालचीनी एंटीवायरल आयुर्वेदिक औषधि हैं जो इन्फेक्शन और सूजन दोनों को कम करने का काम करके सर्दी जुखाम से छुटकारा पाने में मदद करती हैं।

 

सर्दी जुखाम का आयुर्वेदिक इलाज के लिए देसी काढ़ा

पुराने समय में जब अंग्रेजी दवाइया नहीं हैं तब ठण्ड लगते ही काढ़ा बनाकर पिया जाता था उससे ही आराम मिलता हैं। आज भी जब घर में किसी को सर्दी या जुखाम होता हैं तो हमारी दादी नानी काढ़ा पीने की ही सलाह देते हैं। काढ़ा को अगर सरल भाषा में समझाया जाए तो ये एक प्रकार ही हर्बल चाय ही होती हैं जिससे कोल्ड और सांस संबधित बीमारियों के इलाज के लिए लिया जाता हैं। काढ़ा बनाने के लिए कई मसालों का उपयोग किया जाता हैं जो साइनस को साफ़ करते हैं और वायरस को भी समाप्त करते हैं।

ये आयुर्वेदिक काढ़ा बनाने के लिए हमें 500 ml पानी, 2 काली मिर्च, 1 इंच अदरक का टुकड़ा, 4 लौंग, 5 तुलसी की पत्तिया और एक चमच्च शहद की आवश्यकता होगी। अदरक, तुलसी की पत्तियों, काली मिर्च और लौंग को अच्छे से पीसे। अब इसमें पानी मिलाये और तब तक पकाए जब तक यी आधा ना रह जाए। थोडा ठंडा होने के बाद इसमें शहद मिलकर पीले। इन बचे मसालों से ये काढ़ा एक बार और बनाया जा सकता हैं। अगर ठण्ड ज्यादा है तो सुबह शाम ये काढ़ा पिए।

दोस्तों हिंदी में हेल्थ का ये लेख सर्दी जुखाम के घरेलू उपचार : Sardi Jukam ka ilaj in Hindi? आपको कैसा लगा हमें कमेंट्स में लिखकर बताना ना भूले। Common Cold के संबधित सवाल और सुझाव भी हमारे साथ जरुर सांझा करे।

Leave a Reply

error: Content is protected !!