घरेलू नुस्खे शुगर

शुगर (डायबिटीज) का इलाज जड़ से करने के 7 घरेलू नुस्खे

शुगर की बीमारी पहले जहा ज्यादा उम्र के लोगो को ही होती थी वो आजकल जवान लडको और लडकियों को भी अपने चपेट में लेती जा रही हैं। शुगर को डायबिटीज और मधुमेह के नाम से भी जाना जाता हैं। एक बार शुगर की बीमारी हो जाए तो इससे छुटकारा पाना बहुत मुश्किल हो जाता हैं। मेडिकल साइंस में शुगर का कोई ट्रीटमेंट अभी तक आया नहीं हैं। आज हम आपको बिना दवाइयों के शुगर का इलाज और डायबिटीज कंट्रोल या कम करने के कुछ घरेलू उपाय बताएँगे।

डायबिटीज की बिमारी 2 प्रकार की होती हैं। पहली होती हैं Diabetes Type 1, जिसमे बॉडी इन्सुलिन बनाना ही बंद कर देती हैं। ये शुगर 20 साल से कम उम्र के लोगो को होती हैं। दूसरी हैं Diabetes Type 2 जिसमे शरीर इन्सुलिन तो बनाती हैं पर उतना नहीं बनाती जितने की बॉडी को जरुरत होती हैं। या फिर जो इन्सुलिन बनती हैं वो ठीक तरह से काम नहीं करती। ये किसी भी उम्र के लोगो को हो सकती हैं, ज्यादतर ये शुगर अधिक उम्र के महिला और पुरुषो को होती हैं।

जब इम्यून सिस्टम उन कैशिकाओ को खत्म करना शुरू कर देता हैं जिनका काम इन्सुलिन बनाना होता हैं ऐसे में टाइप 1 डायबिटीज होता हैं। ऐसे में शरीर में पर्याप्त मात्रा में इंसुलिन नहीं बन पाते। इसके होने का कोई ख़ास कारण नहीं होते हैं। शरीर में बैक्टीरियल या वायरल इन्फेक्शन होना, खाने के हानिकारण रसायन कुछ ऐसे वजह हैं जो इस तरह के शुगर बनने का करण बनती हैं।

टाइप 2 डायबिटीज जो की सबसे ज्यादा आम हैं और जायदातर लोग इसी की चपेट में आते हैं। इस शुगर का कोई एक ख़ास कारण नहीं होता, बल्कि कई कारणों के मेल से ये मधुमेह होता हैं। निचे ऐसे ही कुछ आम कारण दिए गए हैं।

  • मोटापा होना
  • ज्यादा तनावभरी जिंदगी जीना
  • उम्र बढ़ना
  • डाइट में पौषक तत्वों की कमी होना
शुगर का इलाज sugar ka ilaj in Hindi

Sugar ka ilaj in Hindi

जाने : शुगर के लक्षण

शुगर का इलाज : Diabetes (Sugar) treatment in Hindi

निचे कुछ ऐसे घरेलू नुस्खे और उपाय बताएँगे जिनसे बिना किसी दवाइयों के सेवन के शुगर का इलाज किया जा सकता हैं।

1. करेले का जूस

शुगर के घरेलू उपचार में करेले का जूस एक रामबाण उपाय हैं। करेला स्वाद में कड़वा होता हैं पर इसके स्वास्थ्य फायदे अनेक होते हैं। इसमें कई ऐसे यौगिक होते हैं जो शुगर कम करने में मदद करते हैं। करेला अग्नाशय को इंसुलिन स्त्राव के लिए उत्तेजित करता हैं। टाइप 1 और 2 दोनों तरह के शुगर में ये फायदेमंद होता हैं।

2-3 करेले ले और उनके बीज निकालकर उन्हें जूस में डाले और उसमे थोडा पानी डालकर जूस बनाए। इस करेले के जूस को सुबह खाली पेट 2 पिए। ऐसा आपको रोजाना खाली पेट सुबह 2 महीने तक करना हैं।

2. मेथी

शुगर के आयुर्वेदिक उपचार में मेथी एक कारगर देसी नुस्खा हैं। जिन लोदो को शुगर बढ़ने के शिकायत हैं उनके लिए मेथी का ये नुस्खा शुगर कम करने में काफी अच्छा काम करता हैं। मेथी फाइबर से भरपूर होता हैं जो कार्बोहायड्रेट और शुगर सौकने को धीमा करता हैं।

रात को 2 चमच्च मेथी के बीज पानी में डालकर डाले और सुबह के समय खाली पेट उनका सेवन करे। बीजो के साथ वो पानी भी पिए। कुछ महीनो के लिए बिना नागा किये इस नुस्खे को करे।

3. आम की पत्तिया

मधुमेह के उपचार के लिए आम पत्तिया एक असरदार होम रेमेडी हैं। इसके सेवन से शरीर में इंसुलिन का संतुलन बनाए रखने में मदद मिलती हैं। 10-12 आम की पत्तिया पानी में डालकर उबाले और थोडा ठंडा होने के बाद उस पानी का सेवन बिना कुछ खाए पिए सुबह खाली पेट करे। इसके अलावा पानी में पूरी रात के लिए भीगी आम की पत्तियों वाला पानी पीना भी एक दूसरा फायदेमंद तरीका हैं।

4. एलोवेरा

एलोवेरा में एंटी-हाइपरग्लाइसेमिक गुण होते हैं जो डायबिटीज कम करने में मदद करते हैं। एलोवेरा के साथ हल्दी और बे की पत्तियों के साथ मिलाने पर इसके प्रभाव और बढ़ जाते हैं। इस घरेलू उपाय पूरी तरह से नेचुरल हैं जिससे इसके कोई साइड इफ़ेक्ट भी नहीं होते।

एक चमच्च एलोवेरा जूस में आधा चमच्च हल्दी और उतनी ही बे की पत्तिया मिलाये। इए मिश्रण का दिन में 2 बार दोपहर और शाम के खाने से पहले सेवन करे।

5. अमरुद खाए

शुगर में कौन से फ्रूट खाने चाहिए? इस सवाल के जवाब में सबसे उपर अमरुद का नाम आता हैं। अमरुद में विटामिन सी में काफी पाया जाता हैं और इस फल में फाइबर भी उच्च मात्रा में पाया जाता हैं जो ब्लड शुगर को कंट्रोल में काफी मदद करता हैं।

अमरुद खाने से मेटाबोलिज्म भी बेहतर होगा जिससे खाने से शुगर लेने की क्षमता में भी सुधार आता हैं। शुगर के मरीज़ को अमरुद को छिलका उतार कर खाना चाहिए और एक नियमित मात्रा में ही अमरुद खाए।

 

शुगर का आयुर्वेदिक उपचार के देसी नुस्खे

आंवला

शुगर का जड़ से इलाज करने पहले इसके होने का प्रमुख कारण जानना जरुरी हैं। अग्नाशय इन्सुलिन का निर्माण करना होता हैं, जब अग्नाशय सही से काम नहीं करता तब इंसुलिन में असंतुलन पैदा होता हैं। आंवला विटामिन C का उच्च स्त्रोत होता हैं जो अग्नाशय को सही से काम करने में मदद करता हैं।

2-3 आवला ले और उनके बीज निकालकर उनको पीस आकर पेस्ट बना ले। इए पेस्ट को को एक पतले कपडे में डालकर उसका जूस निकाल ले। इस आंवले के जूस को एक गिलास पानी में मिलाए और सुबह खाली पेट पिए।

दालचीनी

दालचीनी में बायोएक्टिव घटक होते हैं जो डायबिटीज को रोकने और कंट्रोल करने में काफी मददगार होते हैं। शुगर के देसी इलाज के लिए दालचीनी एक रामबाण आयुर्वेदिक नुस्खा माना जाता हैं। खासकर डायबिटीज टाइप 2 में इसका असर बहुत होता हैं।

एक गिलास पानी में 4 सटीक दालचीनी के डालकर आधे घंटे के लिए रखे। इसके बाद इस दालचीनी भीगे पानी को रोजाना पिए। इए घरेलू नुस्खे के सेवन का दूसरा तरीका हैं आधा चमच्च दालचीनी एक गिलास गर्म पानी में मिलाए और पिए।

शुगर कम करने के उपाय और टिप्स इन हिंदी

  • डायबिटीज के रोगों को नियमित एक्सरसाइज जरुर करनी चाहिए। इससे एक तो मोटापा से बचे रहेंगे और दूसरा ब्लड शुगर की खपत होकर शुगर में कमी आयगी।
  • सुगर को नियंत्रित रखने के लिए पानी ज्यादा पिए। पानी से ब्लड हाइड्रेट रहता और अधिक पानी से पेशाब ज्यादा बनेगा जिससे किडनी पेशाब के जरिए अतिरिक्त शुगर को बाहर निकालेगा।
  • जितना ज्यादा तनाव और टेंशन में आप रहोगे उतना शुगर का रिस्क बढेगा। इसलिए कौशिश करे कम से कम टेंशन ले।
  • कम नींद लेना इसुलिन स्वेदंशीलता में कमी लाता हैं। दिन में 7-8 घंटे की नींद कम से कम ले।
  • कार्बोहायड्रेट युक्त खाने कम ले और जिन खानों या फलो में फाइबर जायदा होता हैं उन्हें अपनी खुराक में शामिल करे।

दोस्तों डायबिटीज ट्रीटमेंट से जुडी ये जानकारी शुगर कम करने के उपाय : Sugar ka ilaj in Hindi? आपको फायदेमंद लगी हो तो इससे जायदा से ज्यादा शेयर करे। मधुमेह से जुड़े सवाल निचे कमेंट में छोड़े।

Leave a Comment