Thyroid Function Test (t3 t4 tsh) क्या हैं? कीमत, नार्मल रिपोर्ट

Thyroid Function Test (t3 t4 tsh) in Hindi : अगर आप थाइरोइड की समस्या से पीड़ित हैं तो डॉक्टर सबसे पहले आपको थाइरोइड टेस्ट कराने के सलाह देते हैं उसके बाद ही थाइरोइड का इलाज शुरू करते हैं। थाइरोइड गले में मौजूद एक ग्रंथि होती हैं जो T3, T4 और TSH हारमोंस का निर्माण करती हैं जो शरीर को सही से काम करने में मदद करते हैं। थाइरोइड टेस्ट में उन हारमोंस लेवल को जांचा जाता हैं जिनके आधार पर ही टेस्ट के रिजल्ट दिए जाते हैं। तो चलिए विस्तार से जानते हैं थाइरोइड टेस्ट कैसे होता हैं, कीमत (Cost), टेस्ट रिपोर्ट नार्मल रिजल्ट और दूसरी जानकारी।

थाइरोइड में 2 तरह की समस्या आती हैं। पहला hypothyroidism होता हैं जिसमे हारमोंस का निर्माण कम होता हैं और दूसरी hyperthyroidism जिसमे हारमोंस आवश्कता से अधिक बनने लगते हैं। महिलाओ को पुरुषो की अपेक्षा थाइरोइड की बीमारी ज्यादा होती हैं। एक सर्वे में पाया गया की भारत में हर 10 लोगो में से एक को थाइरोइड की प्रॉब्लम रहती हैं।

Thyroid Function Test (t3 t4 tsh) in Hindi

T3 T4 और TSH क्या हैं : t3 t4 tsh test in Hindi

हमारी थाइरोइड ग्रंथि 2 प्रमुख हम्रोंस बनाती हैं जिनके नाम है T3 (Triiodothyronine) और T4 (Thyroxine). जो हम खाते पीते हैं उनसे मिलने वाली आयोडीन से थाइरोइड इन दोनों हारमोंस का निर्माण करती हैं। T4 हारमोंस कितनी मात्रा में बनना चाहिए उसको एक अन्य हार्मोन द्वारा नियंत्रित किया जाता हैं। ये हार्मोन Pituitary Gland में बनता हैं जिसे TSH (thyroid stimulating hormone) कहते हैं।

थाइरोइड टेस्ट कब किया जाता हैं

डॉक्टर आपको थाइरोइड टेस्ट करने की सलाह तब देता हैं जब थाइरोइड के लक्षण दिखाई दे। टेस्ट से हमें थाइरोइड होने, ना होने और समस्या कितनी हैं, इन सब बातो का पता लग जाता हैं। अचानक वजन ज्यादा बढना या घटना, सोने के बाद भी थकावट रहना, कमजोरी जोड़ो में दर्द और हाथ पैर ठंडे रहना जैसे थाइरोइड के लक्षण दिखाई देने पर थाइरोइड फंक्शन टेस्ट करने की सलाह दी जाती हैं।

कई बार थाइरोइड के ट्रीटमेंट के दौरान भी ये टेस्ट कराया जाता हैं। जिससे ये पता लगाया जाता हैं की मेडिसिन कितना असर कर रही हैं और बिमारी कितनी ठीक हुई हैं। जब मरीज़ का कृत्रिम थायराइड हार्मोन ट्रीटमेंट चल रहा हैं तो इन टेस्ट के जरिए t3,t4 और tsh हारमोंस लेवल को जांचा जाता हैं जिससे सही से मरीज के हालात का जायजा लिया जाता हैं।

Type of Thyroid Test

थाइरोइड ग्लैंड t3, t4 और tsh का निर्माण करके उन्हें स्टोर करके रखते हैं और जरुरत के अनुसार उनका स्त्राव करती हैं। थाइरोइड में जब कोई समस्या आती हैं जो इन हम्रोंस लेवल की जांच की जाती हैं। थाइरोइड टेस्ट 3 तरह के होते हैं जो निचे दिए गए हैं।

  1. TSH Test : थाइरोइड की बीमारी का पता करने के लिए सबसे बेस्ट तरीका हैं खून में Tsh लेवल टेस्ट किया जाए। ब्लड में tsh लेवल नार्मल से ज्यादा होने  मतलब थाइरोइड कम काम कर रही हैं और हार्मोन कम बन रहे हैं जो हाइपोथायरायडिज्म होने का संकेत हैं। अगर टेस्ट रिजल्ट tsh लेवल कम आये तो उसका मतलब overactive thyroid हैं जिसका मतलब हारमोंस ज्यादा बन रहे हैं जिसका मतलब हाइपरथाइरॉयडिज़्म हो सकता हैं।
  2. T3 Test: इस टेस्ट में हाइपरथायरायडिज्म की जांच की जाती हैं और हमें डिटेल में पता चलता हैं किस लेवल ही हाइपरथायरायडिज्म समस्या हैं।
  3. T4 Test: थाइरोइड टेस्ट में T4 टेस्ट सबसे महत्वपूर्ण होता हैं जानने के लिए की थाइरोइड सही से काम कर रही हैं या नहीं। इस टेस्ट रिपोर्ट के रिजल्ट के आधार पर हाइपरथायरायडिज्म और हाइपोथायरायडिज्म दोनों तरह की थाइरोइड बीमारी का पता लगाया जाता हैं।

T3 T4 TSH Test Result Normal Range in Hindi

  • T3 : 0.5-6 uU/ml
  • T4 : 80-180 ng/dl
  • TSH : 4.6-12 ug/dl

अगर आपके थाइरोइड फंक्शन टेस्ट रिपोर्ट रिजल्ट नार्मल रेंज में हैं तो उसका मतलब हैं आपकी थाइरोइड सही से काम कर रही हैं। अगर हारमोंस लेवल रिपोर्ट में नार्मल से बढे हुए या घटे हुए आये तो डॉक्टर को रिपोर्ट दिखाकर ट्रीटमेंट चालू कर दे।

थाइरोइड फंक्शन टेस्ट से पहले सावधानिया

थाइरोइड टेस्ट कराने से पहले कुछ सावधानिया रखना जरुरी होता हैं। कुछ ऐसे दवाइया होती हैं जिनके लेने से ब्लड में हारमोंस लेवल में बदलाव हो सकता हैं। गर्भ निरोधक दवाइया उन मेडिसिन में से हैं जो खून में t4 हारमोंस की मात्रा को प्रभावित करती हैं। इसलिए अगर आप पहले से कोई दवाई ले रहे हैं तो अपने डॉक्टर को उनके बारे में बताकर ही टेस्ट करवाए। महिलाओ में प्रेगनेंसी के दौरान भी t3 और t4 हारमोंस लेवल में अनियमितता रहती हैं।

अगर आने कुछ समय पहले ही कोई x-ray test करवाया हैं जिसमे एक विशेष डाई का इस्तेमाल होता हैं वो थाइरोइड टेस्ट रिजल्ट के परिणाम को प्रभावती कर सकते हैं। इसलिए इस बारे में भी डॉक्टर से परामर्श जरुर ले।

थायराइड टेस्ट की कीमत : Thyroid Test Cost in Hindi

थाइरोइड टेस्ट कितने में होता हैं, ये निर्भर करता हैं आप किस शहर में रहते हैं और किस हॉस्पिटल से ये टेस्ट करवा रहे हैं। थाइरोइड फंक्शन टेस्ट करने की कुल कीमत 300 से 500 रूपये के बीच में होती हैं।

दोस्तों हिंदी में हेल्थ की ये नयी जानकारी थाइरोइड टेस्ट क्या हैं : Thyroid (t3 t4 tsh) Test in Hindi? अगर आपको अच्छी लगी हो तो उसे शेयर जरुर करे। थाइरोइड बीमारी से जुड़े अन्य कोई सवाल आप नीचे कॉमेंट्स में पूछ सकते हैं।

Leave a Reply

error: Content is protected !!